यूक्रेन में भारतीय छात्र Live: अपने घर-अपनी मातृभूमि के पास लौटने का समय आ गया है, इतना कहकर भारतीय पायलट ने हंगरी से भरी उड़ान

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को लाने के लिए दो सी-17 ग्लोबमास्टर रोमानिया व हंगरी रवाना हो गए हैं। पहले विमान ने सुबह चार बजे रोमानिया के लिए उड़ान भरी थी, वहीं दूसरा विमान हंगरी के लिए रवाना हो गया। वायु सेना के मुताबिक, आज तीन विमान छात्रों को एयरलिफ्ट कराने के लिए रवाना होंगे। छात्रों के लिए जारी हुए हेल्पलाइन नंबर भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं। इन छात्रों को रोमानिया, पोलैंड, हंगरी, स्लोवाकिया के रास्ते भारत लाया जा रहा है। ऐसे में सभी देशों के लिए भारत सरकार की ओर हेल्पडेस्क बनाई गई है। मोर्चे पर भारत के चार मंत्री ऑपरेशन गंगा अभियान के तहत सभी भारतीय छात्रों को एयरलिफ्ट कराने के लिए चार मंत्रियों को मार्चे पर भेजा गया है। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को रोमानियाऔर माल्डोवा भेजा गया है। किरण रिजिजू को स्लोवाकिया, हरदीप पुरी को हंगरी और जनरल वीके सिंह को पोलैंड भेजा गया है। ये सभी मंत्री भारतीय छात्रों को निकालने के लिए सरकारों के साथ समन्वय स्थापित करेंगे। घर लौटने का समय आ गया है यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को लेकर जब विमान ने उड़ान भरी तो भारतीय पायलट के शब्दों ने हर छात्र को भावुक कर दिया। हंगरी के बुडापेस्ट से उड़ान भरते समय पायलट ने कहा कि, अपने घर अपनी मातृभूमि के पास लौटने का समय आया गया है। #WATCH "It's time to go back to our motherland, our home," says the pilot of a special flight carrying Indians stranded in Ukraine from Budapest to Delhi pic.twitter.com/likhrimPSI — ANI (@ANI) March 2, 2022 आठ मार्च तक 46 उड़ानें ऑपरेशन गंगा के तहत आठ मार्च तक भारत से 46 उड़ानें यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को निकालने के लिए रवाना होंगी। 29 उड़ानें बुखारेस्ट, 10 बुडापेस्ट, छह पोलैंड व एक उड़ान स्लोवाकिया के कोसिसे के लिए उड़ान भरेगी। कीव में अब कोई भारतीय नहीं विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने बताया कि, कीव से सभी भारतीयों को निकाल लिया गया है। दरअसल, मंगलवार को भारतीय दूतावास की ओर से चेतावनी जारी की गई थी, इसमें बताया गया था कि भारतीय नागरिक किसी भी हाल में कीव छोड़ दें। यूक्रेन में अभी भी 40 प्रतिशत भारतीय फंसे जंग शुरू होने से पहले यूक्रेन में 20 हजार से ज्यादा भारतीय छात्र व अन्य नागरिक रह रहे थे। इसके बाद से लगातार छात्रों को निकाला जा रहा है। आने वाले तीन दिनों में 26 उड़ानें भारतीयों को एयरलिफ्ट कराएंगी। विदेश सचिव ने बताया कि अभी भी 40 प्रतिशत भारतीय यूक्रेन में फंसे हुए हैं। रूस के रास्ते इमरजेंसी रेस्क्यू की तैयारी खारकीव व यूक्रेन के पूर्वी क्षेत्रों में फंसे भारतीय छात्रों को रूस के रास्ते इमरजेंसी रेस्क्यू कराने की तैयारी चल रही है। भारत में रूसी राजदूत ने बताया कि भारतीय अधिकारियों की ओर से इमरजेंसी रेस्क्यू के लिए कहा गया है।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Mar 02, 2022, 11:17 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




यूक्रेन में भारतीय छात्र Live: अपने घर-अपनी मातृभूमि के पास लौटने का समय आ गया है, इतना कहकर भारतीय पायलट ने हंगरी से भरी उड़ान #IndiaNews #National #IndianStudentsInUkraine #OperationGanga #RussiaUkraineWar #SubahSamachar