मांग : यूपी से कर्नाटक तक पेट्रोल-डीजल का संकट, किसानों-डीलरों की मुश्किलें बढ़ीं, पिछले साल जून के मुकाबले आपूर्ति कम

उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हरियाणा, गुजरात औरकर्नाटक सहित देश के कई राज्यों के कई हिस्सों में पेट्रोल और डीजल का संकट शुरू हो गया है। कई जगह घंटों तक पंप बंद करने पड़ रहे हैं। इससे खेती-किसानी में जुटे किसानों की मुश्किलें बढ़ रही हैं। पेट्रोलियम डीलर्स का कहना है कि ऑयल कंपनियां आपूर्ति संकट को लेकर कोई स्पष्ट कारण नहीं बता रही हैं। पिछले वर्ष जून के मुकाबले इस जून में 48 से 54 फीसदी मांग बढ़ने के बावजूद पूर्व स्तर की भी आपूर्ति नहीं हो रही है। इससे पंप संचालकों की समस्याएं बढ़ती जा रही हैं और ग्राहकों व किसानों के सवालों का जवाब देना मुश्किल हो रहा है। आने वाले दिनों में यह संकट और बढ़ने की संभावना है। जानकार बताते हैं कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत लगातार बढ़ी है। पिछले कुछ समय से सरकारी कंपनियां अंतरराष्ट्रीय बाजार के अनुपात में तेल की कीमतें नहीं बढ़ा पा रही हैं। इससे कंपनियों के मुनाफे में कमी आ रही है। अधिक आपूर्ति से अधिक नुकसान और कम आपूर्ति से कम नुकसान के फार्मूले पर चलते हुए कंपनियों ने मांग की अपेक्षा कम आपूर्ति के फार्मूले पर काम शुरू कर दिया है। इससे अघोषित तौर पर पेट्रोल-डीजल की राशनिंग की स्थिति नजर आने लगी है। पेट्रोलियम डीलर्स के मुताबिक, रिलायंस ने तो अपने पंपों पर पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति ही बंद कर दी है। नायरा डीजल की मांग का 40% व पेट्रोल की मांग का 50% ही आपूर्ति कर रहा है। इसी तरह, एचपीसीएल ने अग्रिम भुगतान को कहा है। इसके बाद भी दो से तीन दिन की जरूरत की ही आपूर्ति की जा रही है। देश के कई हिस्सों में प्रचंड गर्मी की वजह से धान की सिंचाई के लिए डीजल की मांग बढ़ी है। दूसरा, गर्मी की छुट्टियों के बाद स्कूल-कॉलेज खुलने से भी पेट्रोल-डीजल की डिमांड बढ़ी है।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Jun 17, 2022, 06:56 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »

Read More:
Bazar National



मांग : यूपी से कर्नाटक तक पेट्रोल-डीजल का संकट, किसानों-डीलरों की मुश्किलें बढ़ीं, पिछले साल जून के मुकाबले आपूर्ति कम #Bazar #National #SubahSamachar