Bipin Rawat: निधन की खबर सुनते ही फफक पड़े चाचा, कहा- सड़क तो बनेगी, पर बिपिन गांव नहीं आ पाएगा  

उत्तराखंड के अन्य गांवों की तरह जनरल रावत का गांव सैंण भी पलायन से अछूता नहीं है। द्वारीखाल ब्लाॅक की विरमोली ग्राम पंचायत के अंतर्गत पड़ने वाले उपग्राम सैंण तक पहुंचने के लिए मुख्य मोटर मार्ग से एक किमी पैदल रास्ता तय करना पड़ता है। 29 अप्रैल, 2018 के दौरे के बाद परिजनों और ग्रामीणों की मांग पर जनरल रावत ने राज्य सरकार से गांव तक सड़क सुविधा उपलब्ध कराने का आग्रह किया था, जिसे सरकार ने स्वीकार करते हुए सड़क की स्वीकृति प्रदान की। सड़क का निर्माण कार्य चल रहा है। बुधवार शाम को उनके निधन पर उनके चाचा फफक कर रो पड़े। बोले गांव तक सड़क तो पहुंच जाएगी, लेकिन बिपिन अब कभी गांव नहीं आ पाएगा। जनरल रावत ने तत्कालीन मुख्यमंत्री से किया था गांव को सड़क से जोड़ने का आग्रह उत्तराखंड के अन्य गांवों की तरह पलायन की मार झेल रहे सैंण (विरमोली) गांव को सड़क से जोड़ने की कवायद जनरल बिपिन रावत के 29 अप्रैल, 2018 के भ्रमण के बाद शुरू हुई। परिजनों और ग्रामीणों ने सड़क निर्माण की मांग को तब गांव पहुंचे जनरल रावत के समक्ष उठाया था। जनरल रावत ने तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से गांव को सड़क से जोड़ने का आग्रह किया था, जिस पर तत्काल कार्रवाई करते हुए सीएम ने लोनिवि के अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किए थे। लोनिवि दुगड्डा के अधिशासी अभियंता निर्भय सिंह ने बताया कि सैंण गांव के लिए डाडामंडी-मदनपुर मार्ग का विस्तार किया गया है। सैंण गांव के लिए 4.750 किमी सड़क की स्वीकृति मिली है, जिसमें से तीन किमी सड़क कटान का कार्य हो चुका है। बाकी सड़क का निर्माण कार्य प्रगति पर हैं। Bipin Rawat: उत्तराखंड के थे देश के पहले सीडीएस बिपिन रावत, मौत की खबर से राज्य में शोक की लहर

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Dec 08, 2021, 20:49 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




Bipin Rawat: निधन की खबर सुनते ही फफक पड़े चाचा, कहा- सड़क तो बनेगी, पर बिपिन गांव नहीं आ पाएगा   #CityStates #Dehradun #Kotdwar #Pauri #Uttarakhand #CdsBipinRawat #BipinRawat #TamilNaduHelicopterCrash #SubahSamachar