New Invention: पॉलीथिन का विकल्प बनेगी धान की भूसी से बनी बायोडिग्रेडेबल शीट, जानें इसकी खासियत

पशुओं व मानव जीवन सहित पर्यावरण के लिए वैश्विक समस्या बन चुकी पॉलीथिन जल्द बाजार से विलुप्त हो सकती है। इसका विकल्प तलाश रहे विवि के वैज्ञानिकों ने पांच वर्ष की कड़ी मेहनत से राइस वेस्ट (धान की भूसी) से हूबहू पॉलीथिन जैसी दिखने वाली बायोडिग्रेडेबल शीट बनाने में सफलता हासिल कर ली है। इसकी खासियत यह है कि यह मिट्टी के संपर्क में आते ही तीन से छह महीने में स्वत: नष्ट हो जाएगी और खेती को नुकसान भी नहीं पहुंचेगा। जीबी पंत कृषि विवि स्थित प्रौद्योगिकी महाविद्यालय में प्रोसेस एंड फूड इंजीनियरिंग विभाग के प्राध्यापक प्रो. पीके ओमरे व उनकी शोध छात्रा शीबा मलिक ने धान की भूसी को रिफाइंड कर पॉली लेक्टिक ऐसिड बेस्ड शीट तैयार की है जिसका उपयोग विभिन्न उत्पाद रखने में किया जा सकता है। शोधार्थी शीबा ने बताया कि भारत एक प्रमुख चावल उत्पादक देश है। धान की मिलिंग के दौरान करीब 24 मिलियन टन चावल की भूसी का उत्पादन होता है। इसका बॉयलर, बिजली उत्पादन आदि के लिए ईंधन के रूप में एक छोटी राशि का उपयोग किया जाता है। ज्यादातर भूसी या तो जला दी जाती है, या खुले मैदान में कचरे के रूप में फेंक दी जाती है।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Jun 04, 2022, 13:36 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




New Invention: पॉलीथिन का विकल्प बनेगी धान की भूसी से बनी बायोडिग्रेडेबल शीट, जानें इसकी खासियत #CityStates #Dehradun #Uttarakhand #BiodegradableSheet #Polythene #Scientists #GbPantUniversity #ShelfLife #Patent #SubahSamachar