तमिलनाडु के डीजीपी ने देखी ग्रामीण पुलिस की कार्यशैली

लखनऊ। डीजीपी कांफ्रेंस में शामिल होने आए तमिलनाडु के डीजीपी सी. सत्येंद्र बाबू ने सोमवार को बीकेटी थाने व क्षेत्राधिकारी कार्यालय पहुंचकर वहां काम करने के तरीके को देखा। कई पुलिसकर्मियों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में एक तहसील में तीन थाने हैं जबकि तमिलनाडु में तीन सर्किल होते हैं। हालांकि थानों का क्षेत्र भी काफी बड़ा है। वे ग्रामीणों से भी मिले ।डीजीपी सी. सत्येंद्र बाबू ने थाने और सीओ कार्यालय मुंशी के कार्य करने का तरीका, ड्यूटी लगाने और अपराध रजिस्टर भी देखा। थाने में उन्होंने हेल्प डेस्क देखी। पुलिसकर्मियों से बात की। मुकदमा दर्ज करने का तरीका और जनता से पुलिस के व्यवहार के बारे में जानकारी ली। एसपी ग्रामीण ह्रदेश कुमार से पुलिस की तकनीकी जानकारी साक्षा की। इस दौरान डीजीपी सी. सत्येंद्र कुमार ने उन्हें तमिलनाडु पुलिस के काम करने का तरीका बताया।कठवारा गांव में की ग्रामीणों से बातचीतसीओ कार्यालय व थाने से निकलने के बाद डीजीपी सी सत्येंद्र बाबू एसपी ग्रामीण हृदेश कुमार के साथ कठवारा गांव पहुंचे। वहां डीजीपी ने ग्रामीणों से बात की और पुलिस के बारे में जानकारी ली। ग्रामीणों के काम करने का तरीका, उनका रहन-सहन देखा। खेती के बारे में जानकारी ली। इस दौरान कई स्थानों पर रुककर खेतों में फोटो भी खिंचवाई। तमिलनाडु के डीजीपी सी. सत्येंद्र बाबू 2016 में साइकिल से कश्मीर से कन्याकुमारी तक की यात्रा कर चुके हैं। उनके सेवानिवृत्त होने में अभी सात माह बाकी हैं। डीजीपी ने एसपी ग्रामीण व उनकी टीम को बेहतर काम करने के लिए बधाई दी।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Nov 23, 2021, 01:45 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »

Read More:
Police DGP



तमिलनाडु के डीजीपी ने देखी ग्रामीण पुलिस की कार्यशैली #Police #DGP #SubahSamachar