रिपोर्ट: ताइवान के वायु क्षेत्र में चीन के 18 जंगी विमानों ने की घुसपैठ, पढ़ें दुनिया खास खबरें

ताइवान ने कहा है कि चीन के 18 सैन्य विमानों ने उसके वायु रक्षा क्षेत्र (एडीआईजेड) में प्रवेश किया है। इसे साल की दूसरी सबसे बड़ी घुसपैठ बताया जा रहा है। बमवर्षक विमानों ने ताइवानी क्षेत्र के दक्षिण-पश्चिम व दक्षिण-पूर्व से एक साथ उड़ान भरी जबकि अन्य जेट दक्षिण-पश्चिम से आए। राष्ट्रीय रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, इन विमानों में छह जे-11 लड़ाकू जेट, छह जे-16 लड़ाकू जेट, दो शीआन एच -6 बमवर्षक, दो केजे -500 हवाई पूर्व चेतावनी और नियंत्रण विमान, एक शानक्सी वाई-8 विमान शामिल थे। ताइवान समाचार की रिपोर्ट में बताया गया कि पनडुब्बी रोधी युद्धक विमान और एक शानक्सी वाई-8 इलेक्ट्रॉनिक युद्धक विमान भी शामिल था। इनसे निपटने के लिए ताइवान की वायुसेना ने विमान भेजे, रेडियो चेतावनी दी व चीनी विमानों को ट्रैक करने के लिए वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली तैनात की। बता दें कि ताइवान पर चीन अपनी संप्रभुता का दावा करता है। फ्रांस : इमैनुअल मैक्रों बोले, इस बार पहले से अलग होंगी नीतियां मुश्किल से किसी को दूसरा मौका देने वाले फ्रांस में इमैनुअल मैकों (44) ने शनिवार को लगातार दूसरे कार्यकाल के लिए एलिसी पैलेस में राष्ट्रपति पद की शपथ ली। कारोबार समर्थक नीतियों और सेवानिवृत्ति आयु बढ़ाने के प्रस्ताव के तीखे विरोध के बावजूद मैकों ने दूसरे दौर में 58.5 प्रतिशत वोट लेकर मेरीन ली पेन को पराजित किया था। संक्षिप्त भाषण में मैकों ने दुनिया और फ्रांस के सामने मौजूद अभूतपूर्व चुनौतियों के मद्देनजर नई नीतियों की जरूरत बताते हुए कहा, उनका दूसरा कार्यकाल पहले के मुकाबले अलग होगा। हमें लीक पर चलने के बजाय नई नीतियां अपनानी होंगी। उन्होंने सम्मान और सोच-विचार के साथ काम करने का वादा किया। उन्होंने रूस के यूक्रेन पर आक्रमण से उपजी चुनौती और दुनिया में पर्यावरण चिंता पर जोर डाला। पूर्व राष्ट्रपति फ्रांकोइस होलैंड, निकोलस सरकोजी, पूर्व प्रधानमंत्री एडुअर्ड फिलिप समेत कार्यक्रम में करीब 500 लोग मौजूद थे। एजेंसी पाक का गेहूं उत्पादन करीब 30 लाख टन घटेगा गंभीर आर्थिक संकट की चपेट में आए पाकिस्तान को एक और झटका लगने वाला है। देश में गेहूं का उत्पादन इस साल लक्ष्य से करीब 30 लाख टन कम होने का अनुमान है। इस पर पीएम शहबाज शरीफ को बता दिया गया है और अब सरकार कठिन समय के लिए खुद को तैयार कर रही है। डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि 288.9 करोड़ टन के लक्ष्य के मुकाबले गेहूं का उत्पादन 261.73 करोड़ टन ही होने का अनुमान है। इस कमी का कारण गेहूं की खेती के तहत क्षेत्र की कमी, पानी और उर्वरक की कमी तथा समर्थन मूल्य की घोषणा में देरी होना है। अन्य मुद्दों में देश के भीतर तेल की कीमतों में लगातार जारी वृद्धि के चलते जनता पहले ही हताश है। देश में गेहूं के उत्पादन में इस साल दो फीसदी की कमी आई है। हालात से निपटने के लिए प्रधानमंत्री ने एक बैठक में अधिकारियों को एक रणनीति तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: May 08, 2022, 04:35 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




रिपोर्ट: ताइवान के वायु क्षेत्र में चीन के 18 जंगी विमानों ने की घुसपैठ, पढ़ें दुनिया खास खबरें #World #International #TaiwanChinaNews #WorldNews #SubahSamachar