Uttarakhand: इस साल पूरा होगा प्रदेश के 50 गांवों में सड़क का सपना, 906 सड़कों और पुलों के निर्माण की तैयारी

आजादी के बाद से सड़क का इंतजार कर रहे प्रदेश के 50 गांवों का सपना इस साल पूरा हो जाएगा। 250 से अधिक आबादी वाले ये सभी गांवों सड़क से नहीं जुड़ पाए हैं। सड़क न होने से इन गांवों में बसे ग्रामीण शिक्षा, रोजगार और रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने के लिए मीलों पैदल चलने को मजबूर हैं। प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत इस साल इन गांवों को सड़क से जोड़ने की योजना है। मुख्य अभियंता (पीएमजीएसवाई) रवि प्रताप सिंह कहते हैं, हम सड़कों और पुलों के निर्माण के तय लक्ष्य को पूरा करने के लिए तेजी के साथ आगे बढ़ रहे हैं।50 गांवों को जोड़ने के लिए पीएमजीएसवाई के तहत 658 सड़कों का निर्माण होना है। इन सड़कों को गांवों तक जोड़ने के लिए 248 पुल भी बनाए जाने हैं। कुल मिलाकर 1472 किमी लंबाई के सड़कों और पुलों के निर्माण पर कुल 2291.98 करोड़ रुपये खर्च होने हैं। लक्ष्य के आधार पर पुलों और सड़कों के निर्माण के लिए निविदा से लेकर कार्य आवंटन तक की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। भौगोलिक रूप से कठिन सबसे अधिक सड़कें राज्य के पर्वतीय जिलों से संबंधित हैं। इनमें सबसे अधिक 103 मार्ग अल्मोड़ा जिले और सबसे अधिक 66 पुलों का निर्माण चमोली जिलों के गांवों में होना है। चमोली जिले में 86 सड़कों के साथ कुल 152 कार्यों पर काम होना है, जिस पर सबसे अधिक 421 करोड़ की लागत आएगी।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: May 22, 2022, 13:29 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




Uttarakhand: इस साल पूरा होगा प्रदेश के 50 गांवों में सड़क का सपना, 906 सड़कों और पुलों के निर्माण की तैयारी #CityStates #Dehradun #Uttarakhand #Road #Pmgsy #SubahSamachar