गेहूं निर्यात: भारत की नई रणनीति, एशियाई देशों के अलावा अब चीन, तुर्की सहित इन देशों से भी हो रही बात

भारत गेहूं निर्यात करने के लिए अपने एशियाई और दक्षिण एशियाई पड़ोसियों से परे मिस्र, तुर्की, चीन, बोस्निया, सूडान, नाइजीरिया, ईरान और अन्य देशों के साथ बातचीत कर रहा है। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अनुसार, भारत मिस्र को गेहूं का निर्यात शुरू करने के लिए अंतिम बातचीत कर रहा है। इसके अलावा गेहूं निर्यात शुरू करने के लिए तुर्की, चीन, बोस्निया, सूडान, नाइजीरिया, ईरान और अन्य जैसे देशों के साथ चर्चा चल रही है। अप्रैल-जनवरी 2021-22 के दौरान गेहूं के निर्यात में 1,742 मिलियन अमेरिकी डॉलर की भारी वृद्धि दर्ज की गई, जो 2020-21 में इसी अवधि की तुलना में 387 प्रतिशत बढ़कर 340.17 मिलियन डॉलर को छू गया। निर्यात में जबरदस्त तेजी आई भारत ने पिछले तीन वर्षों में 2,352.22 मिलियन डॉलर का गेहूं निर्यात किया है, जिसमें चालू वित्त वर्ष 2021-22 के पहले 10 महीने शामिल हैं। 2019-20 में गेहूं का निर्यात 61.84 मिलियन डॉलर था जो 2020-21 में बढ़कर 549.67 मिलियन डॉलर हो गया। हालांकि भारत वैश्विक व्यापार में शीर्ष दस गेहूं निर्यातकों में से नहीं है, लेकिन निर्यात में इसकी वृद्धि दर अन्य देशों से आगे निकल गई है, औरदुनिया भर में नए बाजारों तक पहुंचने में तेजी से कदम उठा रहाहै। भारत का गेहूं निर्यात मुख्य रूप से पड़ोसी देशों को होता है, जिसमें 2020-21 में मात्रा और मूल्य दोनों के लिहाज से बांग्लादेश की सबसे बड़ी हिस्सेदारी 54 प्रतिशत से अधिक है। 2020-21 में भारत ने यमन, अफगानिस्तान, कतर और इंडोनेशिया जैसे नए गेहूं बाजारों में प्रवेश किया। एपीडा ने की अहम बैठक इससे पहले गुरुवार को कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (APEDA) ने उन देशों में निर्यात को बढ़ावा देने के लिए प्रमुख हितधारकों की एक बैठक आयोजित की, जिनके पास बड़ी शिपमेंट क्षमता है। बैठक में वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के निर्देशों का पालन किया गया ताकि भू-राजनीतिक स्थिति को देखते हुए किसी भी वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला व्यवधान को कम करने के लिए शिपमेंट को बढ़ाया जा सके। बैठक में प्रमुख हितधारकों जैसे व्यापारियों, निर्यातकों, बंदरगाह अधिकारियों, खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्रालयों के नीति निर्धारकों, रेलवे और विभिन्न राज्य सरकारों के अधिकारियों की भागीदारी देखी गई। रेलवे ने भी दिया आश्वासन बैठक में रेलवे ने अतिरिक्त गेहूं परिवहन की किसी भी तत्काल मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त रैक उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया। बंदरगाह अधिकारियों को गेहूं के लिए कंटेनरों के साथ-साथ टर्मिनलों को बढ़ाने के लिए भी कहा गया है। गेहूं के बंपर उत्पादन अनुमान को देखते हुए एपीडा ने सभी हितधारकों को परेशानी मुक्त गेहूं निर्यात की सुविधा के लिए अपने बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए कहा। वाणिज्यिक खुफिया और सांख्यिकी महानिदेशालय के आंकड़ों के अनुसार, 2020-21 में भारतीय गेहूं के लिए शीर्ष दस आयात करने वाले देश बांग्लादेश, नेपाल, संयुक्त अरब अमीरात, श्रीलंका, यमन, अफगानिस्तान, कतर, इंडोनेशिया, ओमान और मलेशिया थे। शीर्ष दस देशों का 2020-21 में भारत के गेहूं निर्यात में मात्रा और मूल्य दोनों के संदर्भ में 99 प्रतिशत से अधिक का हिस्सा था।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Mar 19, 2022, 22:52 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




गेहूं निर्यात: भारत की नई रणनीति, एशियाई देशों के अलावा अब चीन, तुर्की सहित इन देशों से भी हो रही बात #IndiaNews #National #Egypt #China #WheatExport #Turkey #WheatIndia #Apeda #SubahSamachar