मिसाल: शौक से शुरू हुआ काम बना जीवन का लक्ष्य, सड़क हादसे में बेटे की मौत के बाद संभाला ट्रैफिक पुलिस का जिम्मा 

गंगाराम की उम्र 75 साल है। शरीर मे झुर्रियां पड़ गई हैं। सांस भी फूलती है। बीते दिनों ही मोतियाबिंद का आपरेशन हुआ है। फिर भी मोर्चे पर डटे दिखे। सीलमपुर चौक पर ट्रैफिक संभालने का सिलसिला 32 साल पुराना है। शुरुआत शौकिया की। एक हादसे ने उनकी जिंदगी का मकसद दिया। हुआ यह कि सीलमपुर में उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक की छोटी सी दुकान खोली। ट्रैफिक पुलिस वाले वहीं अपना वायलेस ठीक कराने आते। इससे उनका भी मन इस काम को सीखने का हुआ। दोस्ती हो जाने से ट्रैफिक पुलिस ने भी सहयोग किया। लेकिन एक दिन जब वह चौक पर नहीं थे, तभी उनके 39 साल के इकलौते बेटे की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। यह उनके लिए बड़ा सदमा था। इसका अफसोस उनको अभी तक है।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Mar 20, 2022, 12:36 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




मिसाल: शौक से शुरू हुआ काम बना जीवन का लक्ष्य, सड़क हादसे में बेटे की मौत के बाद संभाला ट्रैफिक पुलिस का जिम्मा  #CityStates #Delhi #DelhiNews #GangaramMotivationalStory #TrafficPoliceGangaram #SeelampurChowkDelhi #SonDiedInRoadAccident #ManVolunteersAsTrafficPolice #SubahSamachar